धन दूसरों की भलाई करने मे

Posted on

swami vivekanand

अगर धन दूसरों की भलाई करने मे मदद करे,
तो इसका कुछ मूल्य है,
अन्यथा,ये सिर्फ बुराई का एक ढेर है,
और इससे जितना जल्दी छुटकारा मिल जाए उतना बेहतर है।

स्वामी विवेकानंद!!

Leave a Reply