दुख उधार का है आनंद स्वयं का है

osho-ke-vichar-sukh-dukh-par

 

दुख उधार का है, आनंद स्वयं का है।
आनंदित कोई होना तो अकेले भी हो सकता है;
दुखी होना चाहे तो दूसरे की जरुरत है।
कोई धोखा दे गया;
किसी ने गाली दे दी;
कोई तुम्हारे मन की अनुकूल न चला- सब दुख दूसरे से जुड़े है।
और आनंद का दूसरे से कोई सम्बन्ध नहीं है।
आनंद स्वस्फूर्त है। दुःख बाहर से आता है,
आनंद भीतर से आता है।

Read More Quotes on Rajneesh Osho

This div height required for enabling the sticky sidebar
Beton365 - Lunabet Giriş -

Pasgol