Home / Festival Messages / Independence Day / 40+ स्वतंत्रता दिवस पर शायरी, मैसेज, कोट्स

40+ स्वतंत्रता दिवस पर शायरी, मैसेज, कोट्स

जैसा की आप जानते हैं कि 15 अगस्त को भारत अपनी स्वतंत्रता की 72वीं वर्षगांठ मनाने जा रहा है, इसी उपलक्ष्य पर हमने आपके लिए कुछ चुनिन्दा शायरी, मैसेज, कोट्स आदि का कलेक्शन लेकर आए हैं, जिन्हे आप अपने मित्रों को अपने अपने सगे संबंधियों को साझा कर सकते हैं और यहाँ से Independence Day HD wallpaper भी डाऊनलोड कर सकते हैंजैसा की आप जानते हैं कि 15 अगस्त को भारत अपनी स्वतंत्रता की 72वीं वर्षगांठ मनाने जा रहा है, इसी उपलक्ष्य पर हमने आपके लिए कुछ चुनिन्दा शायरी, मैसेज, कोट्स आदि का कलेक्शन लेकर आए हैं, जिन्हे आप अपने मित्रों को अपने अपने सगे संबंधियों को साझा कर सकते हैं और यहाँ से Independence Day HD wallpaper भी डाऊनलोड कर सकते हैं

“मोक्ष पाकर स्वर्ग में रखा क्या है,
जीवन सुख तो मातृभूमि की धरा पर है,
तिरंगा कफन बन जाये इस जन्म में,
तो इससे बाद सौभाग्य क्या है?”

“वतन हमारा ऐसे ना छोड़ पाए कोई,
रिश्ता हमारा ऐसे ना तोड़ पाए कोई,
दिल हमारे एक है एक है हमारी जान,
हिन्दुस्तान हमारा है हम है इसकी शान”

tricolor indian flag background

“इतनी सी बात हवाओं को बताए रखना
रोशनी होगी चिरागों को जलाए रखना
लहू देकर की है जिसकी हिफाजत हमने
ऐसे तिरंगे को दिल में हमेशा बसाए रखना”


“क्‍या यह जरूरी है कि मेरे हाथों में
अनाज या सोने या परिधानों के महंगे उपहार हों?
ओ ! मैंने पूर्व और पश्चिम की दिशाएं छानी हैं
मेरे शरीर पर अमूल्‍य आभूषण रहे हैं
और इनसे मेरे टूटे गर्भ से अनेक बच्‍चों ने जन्‍म लिया है
कर्तव्‍य के मार्ग पर और सर्वनाश की छाया में
ये कब्रों में लगे मोतियों जैसे जमा हो गए।
वे पर्शियन तरंगों पर सोए हुए मौन हैं,
वे मिश्र की रेत पर फैले शंखों जैसे हैं,
वे पीले धनुष और बहादुर टूटे हाथों के साथ हैं
वे अचानक पैदा हो गए फूलों जैसे खिले हैं
वे फ्रांस के रक्‍त रंजित दलदलों में फंसे हैं
क्‍या मेरे आंसुओं के दर्द को तुम माप सकते हो
या मेरी घड़ी की दिशा को समझ करते हो
या मेरे हृदय की टूटन में शामिल गर्व को देख सकते हो
और उस आशा को, जो प्रार्थना की वेदना में शामिल है?
और मुझे दिखाई देने वाले दूरदराज के उदास भव्‍य दृश्‍य को
जो विजय के क्षति ग्रस्‍त लाल पर्दों पर लिखे हैं?
जब घृणा का आतंक और नाद समाप्‍त होगा
और जीवन शांति की धुरी पर एक नए रूप में चल पड़ेगा,
और तुम्‍हारा प्‍यार यादगार भरे धन्‍यवाद देगा,
उन कॉमरेड को जो बहादुरी से संघर्ष करते रहे,
मेरे शहीद बेटों के खून को याद रखना!
द गिफ्ट ऑफ इंडिया
सरोजिनी नायडू

“आजाद भारत के लाल है हम,
आज शहीदों को सलाम करते है,
युवा देश की शान है हम,
अखंड भारत का संकल्प करते है”

“अब तक जिसका खून न खौला अब तक जिसका खून न खौला खून नहीं वह पानी है
जो देश के काम ना आए जो देश के काम ना आए वह बेकार जवानी है”

tirange-se-khubsurat-koi-kafan-nahi

“ज़माने भर में मिलते हे आशिक कई ,
मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता ,
नोटों में भी लिपट कर, सोने में सिमटकर मरे हे कई ,
मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता”


independence day shayari

“जिसका ताज हिमालय है,
जहाँ बहती गंगा है,
जहाँ अनेकता में एकता है..
“सत्यमेव जयते जहाँ का नारा है, जहां का मजहब भाईचारा है
और कोई नहीं दोस्तों वो भारत देश
हमारा है”


de salami is tirange ko

“दे सलामी इस तिरंगे को
जिस से तेरी शान हैं,
सर हमेशा ऊँचा रखना इसका
जब तक दिल में जान हैं..!”


“दुश्मनी के लिए यह याद नहीं रहता,
वतन मेरा दोस्ती पर कुर्बान है,
नफरत पाले कोई उड़ान नहीं भरता,
दिलों में चाहत ही मेरे वतन की शान है”

shahidon ki chitaon pe lagenge

“शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले,
वतन पे मर मिटनेवालों का बाकी यही निशाँ होगा”


Jo desh ke liye shahid huye unko

“जो देश के लिए शहीद हुए उनको मेरा सलाम है,
अपने खून से जिस जमीन को सींचा, उन बहादुरों को सलाम है”


independence day hd wallpaper

“सुंदर है जग में सबसे नाम भी न्यारा है जहां जाति भाषा से बढ़कर देश प्रेम की धारा है निश्चय पवन प्रेमपूर्ण और विशाल हृदय वाला है वह भारत देश हमारा है वह भारत देश हमारा है”


“फना होने की इजाजत ली नहीं जाती,
यह वतन की मोहब्बत है जनाब
पूछ कर नहीं की जाती”

india independence day wallpaper

“ए मेरे वतन के लोगों तुम खूब लगा लो नारा
यह शुभ दिन है हम सब का लहरा लो तिरंगा प्यारा
पर मत भूलो सीमा पर वीरों ने है प्राण गंवाए
कुछ याद उन्हें भी कर लो जो लौट के घर ना आए”


hum hain desh ki prachand naari

“भले हाथो में चूड़ी खनके
छन-छन करते पायल झुमके
पर देश की हैं हम प्रचंड नारी
वक्त पड़ने पर उठाएंगी तलवारें भारी”


“भारत माता तेरी गाथा,
सबसे उँची तेरी शान,
तेरे आगे शीश झुकाए,
दे तुझको हम सब सम्मान!”

“जब आंख खुले तो धरती हिंदुस्तान की हो जब आंख बंद हो तो यादें हिंदुस्तान की हो
हम मर भी जाए तो कोई गम नहीं मरते वक्त मिट्टी हिंदुस्तान की हो”

“भूल न जाना भारत माँ के सपूतों का बलिदान,
इस दिन के लिए जो हुए थे हंसकर कुर्बान,
आज़ादी की ये खुशियाँ मनाकर लो ये शपथ
की बनायेंगे देश भारत को और भी महान”

“स्‍वर्ग या तोरण पथ से बेहतर
मैं तुम्‍हें प्‍यार करता हूं, ओ मेरे भारत
और मैं उन सभी को प्‍यार करुंगा
मेरे सभी भाई जो राष्‍ट्र में रहते हैं
ईश्‍वर ने पृथ्‍वी बनाई;
मनुष्‍य ने देशों की सीमाएं बनाई
और तरह तरह की सुंदर सीमा रेखाएं खींचीं
परन्‍तु अप्राप्‍त सीमाहीन प्रेम
मैं अपने भारत देश के लिए रखता हूं
इसे दुनिया में फैलाना है
धर्मों की माँ, कमल, पवित्र सुंदरता और मनीषी
उनके विशाल द्वार खुले हैं
वे सभी आयु के ईश्‍वर के सच्‍चे पुत्रों का स्‍वागत करते हैं
जहां गंगा, काष्‍ठ, हिमालय की गुफाएं और
मनुष्‍यों के सपने में रहने वाले भगवान
मैं खोखला हूं; मेरे शरीर ने उस तृण भूमि को छुआ है
स्‍वामी योगानंद परमहंस

“मुकम्मल है इबादत और मैं वतन ईमान रखता हूँ,
वतन के शान की खातिर हथेली पे जान रखता हूँ !!
क्यु पढ़ते हो मेरी आँखों में नक्शा पाकिस्तान का ,
मुस्लमान हूँ मैं सच्चा, दिल में हिंदुस्तान रखता हूँ”

कुछ नशा तिरंगे की आन का है कुछ नशा मातृभूमि की शान का है हम लहराएंगे हर जगह ये तिरंगा नशा ये हिंदुस्तान की शान का है

“जहां प्रेम की भाषा है सर्वोपरी,
जहां धर्म की आशा है सर्वोपरि,
ऐसा है मेरा देश हिंदुस्तान जहां,
देश भक्ति की भावना है सर्वोपरी”

“मैं भारत बरस का हरदम अमित सम्मान करता हूँ
यहाँ की चांदनी मिट्टी का ही गुणगान करता हूँ,
मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की,
तिरंगा हो कफ़न मेरा, बस यही अरमान रखता हूँ।”

“सलाम करें उनको जिनके हिस्से में ये मुकाम आता है
खुशनसीब होता है वो खून जो देश के काम आता है”

“हम आजाद हैं, ये आजादी कभी छिनने नहीं देंगे
तिरंगे की शान को हम कभी मिटने नहीं देंगे
कोई आंख भी उठाएगा जो हिंदुस्तान की तरफ
उन आंखों को फिर दुबारा दुनिया देखने नहीं देंगे”

“आज़ादी की कभी शाम ना होने देंगे
शहीदो की कुर्बानी बदनाम ना होने देंगे
बची है जो एक बूँद भी लहू की तब तक
भारत माँ का आँचल नीलाम ना होने देंगे”

“वतन हैं मेरा सबसे महान
प्रेम सौहार्द का दूजा नाम,
वतन-ए-आबरू पर है हम सब कुर्बान,
शान्ति का दूत है मेरा हिन्दुस्तान”

“वतन हमारा मिसाल है मोहब्बत की,
तोड़ता है दीवारें नफरत की,
ये मेरी खुश नसीबी है जो मिली जिन्दगी इस चमन में…
और भुला न सके कोई भी इसकी खूशबु सातों जनम में”

मैं भारत देश का हरदम अमित सम्मान करता हूं यहां की चांदनी मिट्टी का गुणगान करता हूं मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की तिरंगा हो कफ़न मेरा बस यही अरमान रखता हूं

“खुशनसीब होते है वो लोग,
जो इस देश पर कुर्बान होते है,
जान देकर भी वो लोग अमर हो जाते है,
करते है सलाम उन देश प्रेमियो को,
जिनके कारण इस तिरंगे का मान होता है”

“गूँज रहा है,दुनिया में भारत का नगाडा..
चमक रहा है,आसमान में देश का सितारा…
आज़ादी के दिन आओ मिलके करें दुआ यही
की बुलंदियों पर लहराता रहे तिरंगा हमारा”

15 august wallpaper download

“संस्कार और संस्कृति की शान मिले ऐसे,
हिन्दू मुस्लिम और हिंदुस्तान मिले ऐसे
हम मिलजुल के रहे ऐसे की
मंदिर में अल्लाह और मस्जिद में राम मिले जैसे.”


unity in diversity

“गंगा यमुना यहाँ नर्मदा,
मंदिर मस्जिद के संग गिरजा,
शांति प्रेम की देता शिक्षा,
मेरा भारत सदा सर्वदा”


“खुशनसीब हैं जो वतन पर कुर्बान हुए,
जो तिरंगे में लिपट जिंदगी से आजाद हुए,
मर कर भी अमर हो गए वो,
साधारण मनुष्य से शहीद की शहादत हो गए वो”

“कीमत करो शहीदों की,
वो देश पर कुर्बान हुए,
सिर्फ दो दिनों की मोहताज नहीं है देश भक्ति,
नागरिकों की एकता ही है देश की असल शक्ति”

“लिख रही हूं मैं अंजाम जिसका कल आगाज आयेगा मेरे लहू का हर एक कतरा इंकलाब लाएगा
मैं रहूं या ना रहूं पर यह वादा है तुमसे मेरा कि मेरे बाद वतन पर मरने वालों का सैलाब आयेगा”

“खुशनसीब है वो जो वतन पर मिट जाते हैं मर कर भी वो लोग अमर हो जाते हैं करती हूं मैं
ए वतन पर मिटने वालों तुम्हारी हर सांस में तिरंगे का नसीब बसता है”

“ये बात हवाओं को बताए रखना,
रोशनी होगी चिरागों को जलाए रखना,
लहू देकर जिसकी हिफ़ाज़त हमने की,
ऐसे तिरंगे को सदा दिल मे बसाए रखना”

“मन जहां डर से परे है
और सिर जहां ऊंचा है;
ज्ञान जहां मुक्‍त है;
और जहां दुनिया को
संकीर्ण घरेलू दीवारों से
छोटे छोटे टुकड़ों में बांटा नहीं गया है;
जहां शब्‍द सच की गहराइयों से निकलते हैं;
जहां थकी हुई प्रयासरत बांहें
त्रुटि हीनता की तलाश में हैं;
जहां कारण की स्‍पष्‍ट धारा है
जो सुनसान रेतीले मृत आदत के
वीराने में अपना रास्‍ता खो नहीं चुकी है;
जहां मन हमेशा व्‍यापक होते विचार और सक्रियता में
तुम्‍हारे जरिए आगे चलता है
और आजादी के स्‍वर्ग में पहुंच जाता है
ओ पिता
मेरे देश को जागृत बनाओ”
“गीतांजलि”
रवीन्द्रनाथ टैगोर

ये पेड़ ये पत्ते ये शाखें भी परेशान हो जाएं.
अगर परिंदे भी हिन्दू और मुस्लमान हो जाएं.
न मस्जिद को जानते हैं , न शिवालों को जानते हैं.
जो भूखे पेट होते हैं, वो सिर्फ निवालों को जानते हैं.
मेरा यही अंदाज ज़माने को खलता है.
की मेरा चिराग हवा के खिलाफ क्यों जलता है.
में अमन पसंद हूँ, मेरे शहर में दंगा रहने दो.
लाल और हरे में मत बांटो, मेरी छत पर तिरंगा रहने दो

तीन रंग का नही वस्त्र, ये ध्वज देश की शान हैं,
हर भारतीय के दिलो का स्वाभिमान हैं,
यही है गंगा, यही हैं हिमालय, यही हिन्द की जान हैं
और तीन रंगों में रंगा हुआ ये अपना हिन्दुस्तान हैं.

कहते हैं अलविदा हम अब इस जहान को,
जा कर ख़ुदा के घर से अब आया न जाएगा,
हमने लगाई आग हैं जो इंकलाब की,
इस आग को किसी से बुझाया ना जाएगा

मैं मुल्क की हिफाजत करूँगा
ये मुल्क मेरी जान है
इसकी रक्षा के लिए
मेरा दिल और जां कुर्बान है

ना पूछो ज़माने को,
क्या हमारी कहानी हैं
हमारी पहचान तो सिर्फ ये हैं
की हम सिर्फ हिंदुस्तानी हैं…!!

मुस्लिम हूँ, तू हिन्दू है,
है दोनों इंसान,
ला मैं तेरी गीता पढ़ लूँ, तू पढ़ ले कुरान,इस स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर
हैं मेरा बस एक ही अरमान
एक थाली में खाना खाए सारा हिन्दुस्तान.
इश्क़ तो करता हैं हर कोई
मेहबूब पे मरता हैं हर कोई,
कभी वतन को मेहबूब बना कर देखो
तुझ पे मरेगा हर कोई

चलो फिर से आज वह नज़ारा याद कर ले,
शहीदों के दिल में थी वो ज्वाला याद करले,
जिसमे बहकर आज़ादी पहुंची थी किनारे पे,
देशभक्तो के खून की वो धारा याद करले.

स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें

Happy Independence Day

 

Comment

Check Also

veer tum badhe chalo dheer tum badhe chalo

वीर तुम बढ़े चलो! धीर तुम बढ़े चलो!

वीर तुम बढ़े चलो! धीर तुम बढ़े चलो! हाथ में ध्वजा रहे बाल दल सजा …