Independence Day

तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं

tirange-se-khubsurat-koi-kafan-nahi

ज़माने भर में मिलते हे आशिक कई,
मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं,
नोटों में भी लिपट कर, सोने में सिमटकर मरे हे कई,
मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं.

जय हिन्द,  वंदे मातरम

Happy Independence Day

Show More
Close