लफ़्ज़ों को बरतने का सलीका ज़रूरी है गुफ़्तगू में

suprabhat-shayari-hindi

लफ़्ज़ों को बरतने का सलीका ज़रूरी है गुफ़्तगू में
गुलाब अगर कायदे से ना पेश हों तो काँटे चुभ जाते हैं…🌹

सुप्रभात
Good Morning


Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/uddharan/public_html/wp-includes/functions.php on line 4757

Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/uddharan/public_html/wp-content/plugins/really-simple-ssl/class-mixed-content-fixer.php on line 110