नहीं भाता अब तेरे सिवा किसी और का चेहरा

नहीं भाता अब तेरे सिवा किसी और का चेहरा,
तुझे देखना और देखते रहना दस्तूर बन गया है।

nahin bhata ab tere siva kisi aur ka chehra,
tujhe dekhna aur dekhte rahna dastur ban gaya hai.

Good Night

Related Post
Recent Posts

This website uses cookies.