Home / Philosophical Quotes / आदमी खुद पर नहीं हँस सकता

आदमी खुद पर नहीं हँस सकता

osho ke anmol vachan

जीवन हँसने-हसाने का अवसर है। आदमी खुद पर हँस नहीं सकता, क्योंकि वह मूर्ख बनने से डरता है।
लेकिन मूर्खता में क्या खराबी है? ज्ञानी बनने की बजाय मूर्ख बनकर जीना ज्यादा बेहतर है।
सच्चा मूर्ख वह है जो किसी बात को गंभीरता से नहीं लेता। मूर्ख आदमी अकारण हँसता रहता है।
उसमें मिथ्या अहँकार नहीं होता। वह सहज, सरल होता है।
यह बहुत बड़ा वरदान है।
क्योंकि हमारी जिंदगी इतनी बोझिल है कि हँसने के कारण खोजने जाएं तो मिलने बहुत मुश्किल हैं।
जो अकारण हँस सकता है उसका जीवन मधुमास बन जाता है; उसके जीवन में आनंद की फुलझड़ियाँ छूटती हैं।
अकारण ही।

##Rajneesh Osho##

Comment

Check Also

aaj ka din vyarth me barbaad mat karo

आज का दिन व्यर्थ में बर्बाद मत करो

  यदि किसी भूल के कारण कल का दिन दु:ख में बीता है तो उसे …

Leave a Reply