Home / Suvichar / परिंदे रुक मत तुझमे जान बाकी है

परिंदे रुक मत तुझमे जान बाकी है

parinde ruk mat tujhme jaan

परिंदे रुक मत तुझमे जान बाकी है
मन्जिल दूर है, बहुत उड़ान बाकी है

आज या कल मुट्ठी में होगी दुनियाँ
लक्ष्य पर अगर तेरा ध्यान बाकी है

यूँ ही नहीं मिलती रब की मेहरबानी
एक से बढ़कर एक इम्तेहान बाकी है

जिंदगी की जंग में है हौसला जरुरी
जीतने के लिए सारा जहान बाकी है।

 

Read and share more Suvichar post

Comment

Check Also

Happy Father's Day

नसीब वाले हैं जिनके सर पर पिता का हाथ होता है – Happy Father’s Day

Comment Related Postsहाथ की शोभा दान से है। सिर की शोभामोह में हम बुराइयाँ नहीं …