तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं

tirange-se-khubsurat-koi-kafan-nahi

ज़माने भर में मिलते हे आशिक कई,
मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं,
नोटों में भी लिपट कर, सोने में सिमटकर मरे हे कई,
मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं.

जय हिन्द,  वंदे मातरम

Happy Independence Day


Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/uddharan/public_html/wp-includes/functions.php on line 4757

Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/uddharan/public_html/wp-content/plugins/really-simple-ssl/class-mixed-content-fixer.php on line 110